दोष मुक्त

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
अजीत कुमार परमेश्वर की बुलाहट हम सब के जीवन में है। वह लोग जो बुलाहट सुनकर, उत्तर देते हैं, जो परमेश्वर की आवाज और उसके तरीकों को पहचानते हैं, उन लोगों को परमेश्वर और ज्यादा पुकारते हैं, और ज्यादा बातें बताते हैं एवं और ज्यादा निर्देश देते हैं- सच मायने मे वह बुलाए गए हैं ...
Read More

தேவனுடைய வாக்குத்தத்தங்களின் நோக்கம்

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
2 பேதுரு 1:3-4ல், “தம்முடைய மகிமையினாலும் காருணியத்தினாலும் நம்மை அழைத்தவரை அறிகிற அறிவினாலே ஜீவனுக்கும் தேவபக்திக்கும் வேண்டிய யாவற்றையும், அவருடைய திவ்விய வல்லமையானது நமக்குத் தந்தருளினதுமன்றி, இச்சையினால் உலகத்திலுண்டான கேட்டுக்குத் தப்பி, திவ்விய சுபாவத்துக்குப் பங்குள்ள...
Read More

ദൈവത്തിന്‍റെ വാഗ്ദത്തങ്ങളുടെ ഉദ്ദേശ്യം

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
2പത്രോസ് 1:3,4– “തന്‍റെ മഹത്വത്താലും വീര്യത്താലും നമ്മെ വിളിച്ചവന്‍റെ പരിജ്ഞാനത്താൽ അവന്‍റെ ദിവ്യശക്തി ജീവനും ഭക്തിക്കും വേണ്ടിയതു ഒക്കെയും നമുക്കു ദാനം ചെയ്തിരിക്കുന്നുവല്ലോ. അവയാല്‍ അവന്‍ നമുക്കു വിലയേറിയതും അതിമഹത്തുമായ വാഗ്ദത്തങ്ങളും നല്‍കിയിരിക്കുന്നു. ഇവയാല്‍ നിങ്ങൾ ലോക...
Read More

परमेश्वर के वादों का उद्देश्य

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
क्योंकि उसके ईश्वरीय सामर्थ ने सब कुछ जो जीवन और भक्ति से सम्बन्ध रखता है, हमें उसी की पहचान के द्वारा दिया है, जिस ने हमें अपनी ही महिमा और सद्गुण के अनुसार बुलाया है। जिन के द्वारा उस ने हमें बहुमूल्य और बहुत ही बड़ी प्रतिज्ञाएं दी हैं: ताकि इन के द्वारा तुम उस सड़ाहट से छू...
Read More

Purpose of God’s Promises

House of Prayer
May 22 · 11 minutes read
2 Peter 1:3-4:- “His divine power has given us everything we need for a godly life through our knowledge of him who called us by his own glory and goodness. Through these he has given us his very great and precious promises, so that through them you may participate in the div...
Read More

व्यावहारिक ईसाई जीवन में विश्वास

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
जब हम याकूब के पत्र को पढ़ते हैं, तो हम महसूस कर सकते हैं कि पौलुस की शिक्षाओं के साथ कुछ विरोधाभास हैं। रोमियों 4:2-3 में पौलुस कहता है, “यदि इब्राहीम कर्मों से धर्मी ठहराया जाता, तो उसे घमण्ड करने की जगह होती, परन्तु परमेश्वर के निकट नहीं।पवित्र शास्त्र क्या कहता है यह क...
Read More

கிறிஸ்தவ வாழ்க்கையின் நடைமுறையில் விசுவாசம்

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
வேதாகமத்தில் யாக்கோபு நிருபத்தை வாசிக்கும்போது, ​​பவுலின் போதனைகளில் சில முரண்பாடுகள் இருப்பதை நாம் உணரலாம். ரோமர் 4: 2-3 இல் பவுல் கூறியிருக்கிறதாவது, “ஆபிரகாம் கிரியைகளினாலே நீதிமானாக்கப்பட்டானாகில் மேன்மைபாராட்ட அவனுக்கு ஏதுவுண்டு; ஆகிலும் தேவனுக்கு முன்பாக மேன்மைபாராட...
Read More

Faith in Practical Christian Life.

House of Prayer
May 22 · 8 minutes read
When we read the Epistle of James, we may feel that there are some contradictions with the teachings of Paul. Paul says in Romans 4: 2-3, “If Abraham was justified by works, he had something to boast about—but not before God. What does Scripture say? “Abraham believed...
Read More

ஆண்டவருக்கான வாஞ்சை

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
“தேவனே, நீர் என்னுடைய தேவன்; அதிகாலமே உம்மைத் தேடுகிறேன்; வறண்டதும் விடாய்த்ததும் தண்ணீரற்றதுமான நிலத்திலே என் ஆத்துமா உம்மேல் தாகமாயிருக்கிறது, என் மாம்சமானது உம்மை வாஞ்சிக்கிறது”சங்கீ63:1 “மானானதுநீரோடைகளைவாஞ்சித்துக்கதறுவதுபோல, தேவனே, என்ஆத்துமாஉம்மைவாஞ்சித்துக்கதறுகிறத...
Read More

परमेश्वर के लिए भूख

House of Prayer
May 22 · 1 minute read
“भजन संहिता 63:1 हे परमेश्वर, तू मेरा परमेश्वर है, मैं तुझे यत्न से ढूंढूंगा? सूखी और निर्जल ऊसर भूमि पर, मेरा मन तेरा प्यासा है, मेरा शरीर तेरा अति अभिलाषी है।“ “भजन संहिता 42:1-2 जैसे एक हिरण शीतल सरिता का जल पीने को प्यासा है। वैसे ही, हे परमेश्वर, मेरा प्राण तेरे लिये...
Read More

Trending Articles

Subscribe to our Newsletter