हमारे पहले प्रेम को फिर से जगाना

हाउस ऑफ प्रैअर

प्रकाशित वाक्य 2:4 – पर मुझे तेरे विरूद्ध यह कहना है कि तू ने अपना पहिला सा प्रेम छोड़ दिया है।

क्या आपने अपना पहला प्रेम खो दिया है? यीशु हमसे पूछते हैं कि क्या हम अब भी उससे वैसे ही प्रेम करते हैं जैसे हम शुरू में करते थे। हमारा परमेश्वर परिस्थितियों के बावजूद हमसे प्रेम करता है। फिर भी, कहीं न कहीं, उसके प्रति हमारा प्रेम खो गया है। जहां प्रेम है वहां आनंद है। अगर आपके घर या आपके चर्च में आनंद की कमी है, तो इसका मतलब है कि वहां प्रेम नहीं है। आनंद का वास्तविक रूप प्रेम से प्रकट होता है।

हमारे पहले प्यार को फिर से कैसे जगाये? परमेशवर कि पहली आज्ञा का पालन करने के द्वारा: “तू अपने परमेश्वर यहोवा से अपने सारे मन, और अपने सारे प्राण और अपनी सारी बुद्धि से प्रेम रखना।” हम अक्सर अपनी समस्याओं को परमेश्वर द्वारा हमें दंडित करने का तरीका समझने की भूल करते हैं। हमारे जीवन में समस्याएँ या कठिन समय परमेशवर कि अनुमति से इसलिए आती है, ताकि हमें प्रभु के पास वापस आने का और अधिक अवसर मिले और हम उससे पहले जैसा प्रेम करें। किसी भी चीज़ की शक्ति को पुनःप्राप्त करने के लिए, हमे उसकी शुरुआत में वापस जाना होगा। परमेश्वर के साथ हमारे रिश्ते की शुरुआत को याद करने से हमारे मन में उसके लिए प्रेम फिर से जगमगाएगा। प्रभु के साथ हमारा प्रेम संबंध क्रूस पर शुरू हुआ।

यूहन्ना 3:16 – क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए।

अक्सर, जब हमारी प्रार्थनाओ का उत्तर नहीं मिलता, तो शैतान हमें बताता है कि परमेश्वर हमसे पर्याप्त प्रेम नहीं करता, जिस तरह उसने हव्वा से कहा था। हमे यह समझना जरूरी है कि परमेश्वर एक निश्चित अवधि के लिए हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर रोकता है, हालाँकि, अनंत काल के लिए वह हमसे कुछ भी नहीं रोकता। यदि आपकी प्रार्थना का कोई उत्तर नहीं मिलता है, तो इसका कारण यह है कि परमेशवर के पास इसका उत्तर देने के लिए एक बेहतर योजना है, जो हम अपनी सीमित कल्पना से समझ नहीं पाते। जब आप क्रूस को देखते हैं, तो आप उस परमेश्वर को देखते हैं जिसने आपको सर्वश्रेष्ट उपहार दिया है। सबसे बड़ा उपहार अगर कोई दे सकता है वह है उनका बेटा – परमेशवर ने हमें अपना सर्वश्रेष्ठ, अपना इकलौता बेटा पहले से ही दे दिया है। यीशु अपनी बाहें फैलाकर, हमें बता रहे हैं कि कैसे उन्होंने अपना लहू, अपना शरीर, और यहाँ तक कि अपनी अंतिम साँस भी हमारे लिए दे दिया है।

अपने बारे में हम अक्सर ऐसा सोचते हैं कि हम प्राप्त करने वालों में से है – उनका आशीर्वाद और उनके उपहार प्राप्त करने के लिए। परमेश्वर आपकी आवश्यकता को उसके समय के अनुसार प्रदान करता है। लेकिन यह केवल लेन-देन का रिश्ता नहीं होना चाहिए; यह एक पारस्परिक संबंध होना चाहिए जहां दोनों पक्षों को प्राप्त हो। अपना शरीर, अपना समय और अपना धन परमेशवर को समर्पित करें।

अगर हम यह कल्पना करे कि जब परमेश्वर ने मानवजाति को बनाया, तो मसीह ने उसकी सारी नसों के अंत को कलाई और टखनों में रखा, जिस पर परमेश्वर ने उससे पूछा कि क्या यह एक अच्छा विचार है (क्यूंकी सालों बाद, जब मसीह अपने द्वारा बनाए गए मनुष्यों के पाप के लिए मर जाता है, तो उसे सारा दर्द सहना पड़ता है जब उसकी कलाई और टखनों में कील लग जाती है)। मसीह ने मानवता के सारे दर्द सहे। जब हम सोचते हैं कि परमेशवर हमारे दर्द से अज्ञान हैं, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है। वह हमारे दर्द को महसूस करता है और हमारे बारे में चिंतित है – जब हम दर्द में होते हैं, तो वह भी दर्द में होता है। जिस तरह उसने हमें अपना सब कुछ दिया है, अगर हम उसे अपना सब कुछ देंगे, तभी हम उस पहले प्रेम पर वापस जा सकते हैं जो हमारे पास उसके लिए था। परमेशवर ने हमें 99% दिल से प्रेम नहीं किया, उसने हमें 100% दिल से प्रेम किया। हम उसे बदले में कितना देते हैं?

मौत ने उसकी जान नहीं ली, प्रेम ने लिया। एक लेखक ने लिखा है,”यीशु ने अपने प्रेम को लाल रंग में लिखा”। यदि आप क्रूस को देखेंगे, तभी आप क्रूस पर प्रेम को देखेंगे। हमारे बुरे स्वभाव और गलतियों के बावजूद, वह हमसे प्रेम रखता है। न केवल वह हमारे लिए मरा, उसने हमें अपने लहू से धोया और शुद्ध किया। अन्य लेखक ने इस प्रकार लिखा है, “मैंने उसका खून निकाला और उसने मुझे उससे धोया”। परमेशवर हमारे बारे में बहुत भावुक है; क्या हम उसके प्रति दीवाने हैं? जोश की कमी के कारण चर्च में लोग जम्हाई लेते और सोते हैं। रविवार की सुबह अपनी दुल्हन को जम्हाई लेते देखने के लिए परमेशवर ने अपनी कलाई और टखनों में कीलें नहीं लगाईं।

क्रूस हमें यह दिखाता है कि पाप कितना गहरा है और परमेश्वर इससे कितना घृणा करता है। क्रूस इतना तीव्र है क्योंकि यह मानवता के अतुल्य मूल्य को प्रकट करता है। हमें पाप और मृत्यु से पुन:स्थापित करने के लिए, परमेश्वर को क्रूस पर चढ़ना पड़ा – यह मानव जाति के मूल्य का दर्शाता है। हम असुरक्षित महसूस करते हैं और सोचते हैं कि हममे कोई मूल्य नहीं हैं, लेकिन परमेशवर हमें बता रहे हैं कि हम उनके लिए कितने बहुमूल्य और कीमती हैं। जैसे व्यापारी ने मोती खरीदने के लिए अपना सब कुछ बेच दिया, वैसे ही परमेशवर हमारे लिए सब कुछ छोड़ देता है। क्रूस उसके प्रेम की असाधारणता को दर्शाता है – यह दिखाता है कि जिस हद तक वह पापियों से प्रेम करता है (पिता का पागल प्रेम)। वह हमें सबसे ज्यादा प्रेम करता है, पागलपन भरे तरीके से, इस तरह से कि हम उसकी गहराई को नाप नहीं सकते। इस प्रेम ने हम पापियों को पुनर्स्थापित करने में मदद की और हमें जीवन में वापस लाया। ऐतिहासिक रूप से, क्रूस पर चढ़ना सबसे अन्यायपूर्ण घटना थी। सबसे सर्वोच्च न्यायाधीश होने के नाते, परमेशवर ने अन्याय को अन्याय के साथ उचित नहीं ठहराया – वह जो कुछ भी बनाया था उसे जला सकता था, लेकिन इसके बजाय, उसने हमें अपने लहू से शुद्ध करने और हमें मृत्यु से बचाने का फैसला किया।

अनुवादक – बिन्दु सूसन