धन्यवाद की प्रार्थना

House of Prayer
Mar 22 · 1 minute read

हम सब जानते हैं की साल 2021, बीते सालों जैसा नहीं था। हमने कई कठिनाइयाओं जैसे  प्राकृतिक आपदाएं, कोविड की महामारी और आर्थिक संकटों का सामना किया। 2022 हमारे लिए कैसा साल होने वाला है? हम कुछ नहीं जानते। हम यह भी नहीं जानते की साल 2021 की यह घटनाएं हमारे जीवन में क्यों घटीं।  हमारे पास इन बातों के स्पष्टीकरण नहीं हैं। परंतु पवित्रशास्त्र बाइबल, में रोमियो की पुस्तक 8:28 में लिखा है “और हम जानते हैं, कि जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती है; अर्थात उन्हीं के लिये जो उस की इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं।“  परमेश्वर हमारी भलाई के लिए सब कुछ बदल देगा यदि हम उसकी योजना के अनुसार बुलाए गए हैं। 

पवित्र बाइबल विस्तार से बताता है कि कैसे इस संसार में प्रभु यीशु के दोबारा आगमन से पहले, अंतिम दिनों में प्रलय और प्रकोप आएंगे। ऐसे कष्टदायक समय में भी हमें भविष्य की जीवित आशा है कि प्रभु यीशु का दोबारा आगमन होगा और वह अपनी दुल्हन अर्थात कलीसिया को ले जाएंगे। 

इसलिए 2022 मे कलीसिया को क्या करना चाहिए?

2022 में कलीसिया के दो मुख्य कार्य रहेंगे :

  1. कलीसिया, मसीह की दुल्हन की तैयारी और  
  2. सुसमाचार की घोषणा। 

यह सिर्फ नए वर्ष में  कलीसिया के लिए कार्य करने का विषय ही नही, परन्तु आने वाले समय की योजना है।

1 कलीसिया अर्थात दुल्हन की तैयारी :

हमारी पहली प्राथमिकता यीशु के आगमन के लिए हमारी अपनी तैयारी और विश्वासी भाई बहनों की तैयारी होनी चाहिए । जब कोविड की महामारी के कारण ‘लाकडाउन’ हुआ तब कलीसियाओं की सभा भवनों में होनी बंद हो गई। परंतु परमेश्वर के लिए घर खुल गए। परमेश्वर ने लोगों के ह्रदय खोलें और उन्होंने यीशु को अपना उद्धारकरता ग्रहण किया।  लोग अपने-अपने घरों में परमेश्वर की आराधना करने लगे। हर घर एक छोटी कलीसिया में परिवर्तित हो गया। आने वाले समय में, इन सभाओं की अगुवाई के लिए पास्टर नहीं होंगे।  विश्वासी लोग ही परमेश्वर की उपस्थिति में बैठकर, वचन पर मनन कर, आपस में हाथों को थामकर विश्वास के साथ प्रार्थना करेंगे। परमेश्वर उनकी प्रार्थना का उत्तर देंगे और आश्चर्य काम करेंगे।

2 सुसमाचार की घोषणा

कलीसिया को उन लोगों के समूह के पास जाना है जिन्होंने अभी तक यीशु मसीह का सुसमाचार नहीं सुना।  हमारे देश में अब सुसमाचार प्रचार एक आसान प्रक्रिया नहीं होगी। हम कलीसिया के इतिहास में देखते हैं कि जब भी कलीसिया का उत्पीड़न हुआ है वह और शक्तिशाली रूप से उभरा है। हम शायद माइक को लेकर सुसमाचार का प्रचार करने में सक्षम नहीं हो सकते।  लेकिन लोग हमारे अपने जीवन में मसीही जीवन की शैली का उदाहरण देखकर यीशु मसीह की तरफ आकर्षित होंगे। 

अपने जीवन को तुच्छ मानो !

प्रेरितों के काम 20:24 मैं पोलूस कहते हैं “परन्तु मैं अपने प्राण को कुछ नहीं समझता: कि उसे प्रिय जानूं, वरन यह कि मैं अपनी दौड़ को, और उस सेवाकाई को पूरी करूं, जो मैं ने परमेश्वर के अनुग्रह के सुसमाचार पर गवाही देने के लिये प्रभु यीशु से पाई है।“ हम अपने जीवन को महत्वपूर्ण और योग्य मानते हैं और इसलिए हम ऐसा कोई भी कार्य करने से डरते हैं जो हमारे जीवन को हानि पहुंचाए। जब 1920 के दशक में ‘स्पेनिश फ्लू’ की महामारी आई थी, उस समय कलीसिया ही ने आगे बढ़कर बीमार लोगों की सेवा और अन्य सहायता के कार्य किए थे । 2022 का साल परमेश्वर की कलीसिया के लिए मुश्किल रहेगा। जैसे दाऊद ने परमेश्वर के अभिषेक के साथ निडर हो कर गोलियथ के साथ लडने की चुनौती को स्वीकार किया था,  वैसे ही कलीसिया को इस संपूर्ण संसार में हाहाकार मचा देने वाली इस भीषण महामारी के समय में भी धैर्य के साथ परमेश्वर के राज्य को आगे बढ़ाना चाहिए।

क्या हमने अपना पहला प्रेम खो दिया है?

प्रकाशित वाक्य 2:4 “पर मुझे तेरे विरूद्ध यह कहना है, कि तू ने अपना पहिला सा प्रेम छोड़ दिया है।“

कहीं ना कहीं हमने भी परमेश्वर के प्रति और एक दूसरे के प्रति अपने इस प्रेम को खो दिया है । क्या आप परमेश्वर को 2021 की शुरुआत में जितना प्रेम करते थे अभी भी उतना ही प्रेम करते हैं? 

बाइबल कहता है कि हम अपने भाइयों से, पड़ोसी से और दुश्मनों से प्रेम करें। परमेश्वर हमसे सिर्फ एक बात करने के लिए कहते हैं कि हम उनसे प्रेम करें। 

क्या हम इस नए साल में एक निर्णय ले सकते हैं? कि ‘हे परमेश्वर मैं आपसे और अपने भाइयों और बहनों से प्रेम करता रहूं जैसे मैं पहले करता था, और अपने पड़ोसियों से अपने मित्रों से और अपने दुश्मनों से भी प्रेम करू। 

हमारे जीवन को नियमित आत्मिक परीक्षण की जरूरत है

क्या ‌हम में से कई लोग नियमित रूप से स्वास्थ्य का परीक्षण नहीं कराते हैं? लेकिन क्या हम इसी तरह नियमित रूप से अपने आत्मिक जीवन की जांच करते हैं ?

2 कुरिन्थियों 13:5अपने आप को परखो, कि विश्वास में हो कि नहीं; अपने आप को जांचो, क्या तुम अपने विषय में यह नहीं जानते, कि यीशु मसीह तुम में है नहीं तो तुम निकम्मे निकले हो।“

परखो और जांचो यहां पर महत्वपूर्ण शब्द है। क्या हम अपने विश्वास में अभी भी स्थिर हैं? पिछले साल में हमने कितने कार्य विश्वास से किए हैं? कितनी प्रार्थनाएं विश्वास में की हैं

फिलिप्पियों 3:1314 “हे भाइयों, मेरी भावना यह नहीं कि मैं पकड़ चुका हूं: परन्तु केवल यह एक काम करता हूं, कि जो बातें पीछे रह गई हैं उन को भूल कर, आगे की बातों की ओर बढ़ता हुआ। निशाने की ओर दौड़ा चला जाता हूं, ताकि वह इनाम पाऊं, जिस के लिये परमेश्वर ने मुझे मसीह यीशु में ऊपर बुलाया है।“‬‬‬‬‬‬‬‬

जब हम अपने आत्मिक जीवन को परखते हैं, तब हम यह समझ सकते हैं कि हमारे अतीत के अनुभव हमारी सेवकाई और बुलाहट को उत्तम होने से रोकते हैं। लेकिन हमें अपने अतीत को भूल कर आगे बढ़ना है क्योंकि परमेश्वर ने हमें एक बुलाहट और सेवकाई दी है जिसमें हमें जय पाना है।

हमारी प्रगति दूसरे देखेंगे, हम नहीं

1 तीमुथियुस 4:15 “उन बातों को सोचता रह, और इन्हीं में अपना ध्यान लगाए रह ताकि तेरी उन्नति सब पर प्रगट हो। अपनी और अपने उपदेश की चौकसी रख।“ 

पौलूस तीमुथियुस को कहता है कि जो उसे वरदान मिले हैं उनमें निश्चिंत ना रहे परंतु उसमें ध्यान लगाए कि उसकी उन्नति सबको प्रकट हो। 

2022 मे दूसरे हमारी उन्नति को देखेंगे। इस कार्य को संपन्न होने के लिए आप अपनी मदद नहीं कर सकते केवल आप अपनी सेवकाई और बुलाहट में आगे बढ़ते रहें। ‌परमेश्वर के अभिषेक को और उसके वरदान को नकारे नहीं। आपके परिवार में या आपके आस पास या आपके ऑफिस में लोग आपको पहचानेंगे कि आप परमेश्वर के लोग दूसरों की भांति नहीं हैं। 

यदि परमेश्वर आपको किसी कार्य के लिए चुनते हैं तो विश्वास कीजिए कि वह आपको उस कार्य के लिए तैयार भी करते हैं। 

परमेश्वर आपको आशीष दे!

yt subscribe
House of Prayer, Trivandrum
2.08K subscribers
Subscribe

Related Articles

Subscribe to our newsletter